हमें चाहने वाले मित्र

16 नवंबर 2017

क़ुरान का सन्देश

अलबत्ता वह इमान लाने वाले रस्तगार हुए (1) जो अपनी नमाज़ों में (खुदा के सामने) गिड़गिड़ाते हैं (2)
और जो बेहूदा बातों से मुँह फेरे रहते हैं (3)
और जो ज़कात (अदा) किया करते हैं (4)
और जो (अपनी) शर्मगाहों को (हराम से) बचाते हैं (5)
मगर अपनी बीबियों से या अपनी ज़र ख़रीद लौनडियों से कि उन पर हरगिज़ इल्ज़ाम नहीं हो सकता (6)
पस जो शख़्स उसके सिवा किसी और तरीके़ से शहवत परस्ती की तमन्ना करे तो ऐसे ही लोग हद से बढ़ जाने वाले हैं (7)
और जो अपनी अमानतों और अपने एहद का लिहाज़ रखते हैं (8)
और जो अपनी नमाज़ों की पाबन्दी करते हैं (9)
(आदमी की औलाद में) यही लोग सच्चे वारिस है (10)

15 नवंबर 2017

एक छोटे से मोहल्ले में बुलंद इरादों के साथ जन्मे भाई अब्दुल हनीफ ज़ैदी

एक छोटे से परिवार में ,,एक छोटे से मोहल्ले में बुलंद इरादों के साथ जन्मे भाई अब्दुल हनीफ ज़ैदी किसी परिचय के मोहताज नहीं है ,,भाई ज़ैदी प्रारम्भिक शिक्षा के बाद कोटा राजकीय महाविद्यालय में ही कर्मकार बने ,,उन्होंने अपने जीवन में कई पीड़ित छात्र छात्राओं का मार्गदर्शन किया ,,अनेक समाज सेवा कार्यो से जुड़े भाई अब्दुल हनीफ ज़ैदी ,,अपने कर्तव्यों के प्रति समर्पित रहे ,,लेकिन थ्री इडियट फिल्म की तरह इनके फोटोग्राफी के शोक ने ,,ज़ैदी को विश्व विख्यात फोटोग्राफर बना दिया ,,,दुर्लभ फोटो कलाकृतियां ,,दुर्लभ फोटोग्राफी के लिए प्रसिद्ध हुए ज़ैदी एक ऐसे फोटोग्राफर कहे जाने लगे ,,जिनकी तस्वीर बोल उठने को तैयार रहती थी ,,ब्लेक ऐंड व्हाइट ,,छोटे छोटे देसी केमरो की शुरुआत से ,,इनकी फोटोग्राफी जीवंत थे ,,उनमे ब्रश से रंग भर उन्हें और खूबसूरत बनाने की इनकी कला ने इन्हे मक़बूल कर दिया ,,अब्दुल हनीफ ज़ैदी अब ऐ एच ज़ैदी हो गए ,,,कोटा के अभ्यारण्य क्षेत्र ,,वन क्षेत्र ,चंबल की कराइयों से लेकर ,,यहां की वन सम्पदा ,, पुरातत्व महत्व की ऐतिहासिक मंज़र कशी ,,,वन्य जीव ,,पक्षी ,वनस्पति की फोटोग्राफी हाड़ोती की धरती पर पारंगत तरीके से अगर किसी ,ने की तो वोह गुदड़ी के इस लाल भाई ऐ एच ज़ैदी ने की ,,हमेशा मुस्कुराते रहना ,कैमरा गले में टांक कर ,,किसी भी अचम्भित कर देने वाले फोटो की तलाश में घात लगाकर घूमना इनकी आदत रही है ,,कई फोटोग्राफर आज भी इन्हे उस्ताद मानकर इनकी पूजा करते है ,,कोटा ही नहीं ,,,,देश विदेश के प्रसिद्ध लेखकों की महत्वपूर्ण पुस्तकों ,,स्मारिकाओं ,,एलबमों में भाई ऐ एच ज़ैदी के फोटो ज़रूर शामिल रहते है ,,लेखक तो सिर्फ अलफ़ाज़ लिखते है ,,लेकिन उनके अल्फ़ाज़ों को ज़िंदगी ,,अल्फ़ाज़ों को पहचान भाई ज़ैदी की फोटोग्राफी आर्ट से बनाई गयी तस्वीरों ने दी है ,,,जूलॉजी यानी जीव विज्ञानं विभाग में महत्वपूर्ण पद पर नियुक्त होने के कारण ,,इन्होने वन्य जीव से लेकर पशु पक्षी ,,सहित पक्षियों के बसेरे घोसले ,,वन्य जीव के गुफाओं से लेकर ,,चंबल के कटाव ,,हरियाली ,,खुशहाली ,,फूल ,,पत्तियों ,,उन पर बसेरा करने वाले कीटों ,,कीड़े मकोड़ो तक की फोटोग्राफी की है ,,उनकी यह तस्वीरें आज भी विश्वप्रसिद्ध ज्ञानवर्धक पुस्तकों में इनके नाम से प्रकाशित है ,,,एक छोटे से ब्लेक ऐंड व्हाइट कैमरे से शुरआत कर ,,आज ज़ूम ,,फिर ,,शूटिंग ,,फिर आधुनिक कैमरे की इस फोटोग्राफ़ी युग में भी भाई ज़ैदी उस्तादों के उस्ताद है ,,उस्तादी के बाद भी सादगी की मुस्कुराहट ,,मददगारी का जज़्बा ,,छोटो को सिखाने के जूनून ने ज़ैदी को दुसरो से अलग ,,ख़ास बना दिया है ,,,मोहब्बत ,,क़ौमी एकता का पैगाम देकर कई बार इन्होने अपने दोस्तों दूसरे समाजो को चौंका दिया है ,,उम्र पर तो इन्होने जैसे माशाअललाह किसी अदालत से स्थगन ले लिया है ,इसीलिए इनकी उम्र बढ़ने का नाम ही नहीं लेती है ,,बच्चो में बच्चे ,,जवानो में जवान ,,,यारों में यार ,,भाई ज़ैदी की कई खूबियां है जो चंद अल्फ़ाज़ों में बयान करना मुश्किल ही नहीं ना मुमकिन ,है ,,,लेकिन एक कमज़ोरी जो सभी की होती है ,भाभी के हुकम पर चलने की वोह तो है ही ना ,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग सख्त

किशोरपुरा पुलिस थाने में सी आई के घर चोरी के मामले में इमरान को थर्ड डिग्री टॉर्चर ,,फिर उसकी पत्नी के साथ मारपीट के बाद उसकी मृत्यु के मामले में राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग सख्त है ,,,राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने एडवोकेट अख्तर खान अकेला की शिकायत पर कोटा पुलिस अधीक्षक किशोरपुरा थाने में दर्ज एफ आई आर 289 /2016 के मामले में अनुसंधान रिपोर्ट सहित वर्तमान में क्या कार्यवाही चल रही है इसका जवाब चार सप्ताह में देने को कहा है ,,,इमरान की तरफ से अख्तर खान अकेला द्वारा दर्ज शिकायत राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग ने 2715 /20 /21 /2016 दर्ज कर प्रसंज्ञान लेकर पुलिस से दो बार जवाब तलब किया है ,,इसी दौरान इमरान के हवाले से उसके फ़र्ज़ी हस्ताक्षर कर किसी अज्ञात व्यक्ति ने ,,किशोरपुरा थाने में दर्ज मुक़दमे को खत्म करने का हवाला देते हुए कथित रूप से एक पत्र भी दिया था जिसे पुलिस अधिकारी के ऐन्ड्रॉसमेन्ट ,के साथ किशोरपुरा थाने भी भेज दिया गया था ,,लेकिन पता चलने पर ,,वक़्फ़ कमेटी कोटा के पूर्व उपाध्यक्ष के साथ जाकर इमरान ने ऐसा कोई भी पत्र देने से इंकार करते हुए ,कार्यवाही जारी रखने और दोषियों को सजा देने की गुहार लगाई थी ,इसके पूर्व भी इस मामले में राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग दो बार कोटा पुलिस अधीक्षक से संबंधित रिपोर्ट तलब कर चुका है ,,,,,,इमरान ने अभी भी अपनी जान का खतरा और झूंठे मुक़दमो में फंसाने का खौफ जताया है ,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

,ज़रा सोचो ,,देश में दो सीडिया ,,बिकाऊ मीडिया और सरकार के इरादे

मेरे देश के निष्पक्ष लोगो ,,,ज़रा सोचो ,,देश में दो सीडिया ,,बिकाऊ मीडिया और सरकार के इरादे ,,दोनों सीडियों के लिए अलग अलग ,,,,एक सीडी ,,छत्तीसगढ़ के एक मंत्री जी की बिकाऊ मीडिया को एक पत्रकार जी ने खबर में चलाने के लिए दी ,,पत्रकार मालिक साहिबो ने ,,सीडी दिखाई तो नहीं सौदेबाज़ी कर खबर लीक की ,,मंत्री जी और सरकार से मुखबीरी की ,,सीडी आज तक ,बिकाऊ मीडिया ने नहीं दिखाई ,,लेकिन उलटे पत्रकार साहिब जिन्होंने यह इंवेस्टिगेटिव खबर की थी ,उन्हें गिरफ्तार करवा दिया गया ,,सी डी ज़ब्त हुई ,,बिकाऊ मिडिया ने एक खेल तो इस सीडी के साथ किया ,,दूसरी सीडी जिस में किसी थाने में कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं ,,किसी महिला की शिकायत नहीं ,,एफ एस एल ,वैज्ञानिक जांच के बाद सी डी सही है या गलत ,,कोई विशेषज्ञ जाँच नहीं ,,देश का क़ानून किसी भी महिला की कोई भी सी डी महिला अशिष्ट रूपेण प्रतिषेध में अपराध है ,,सभी जानते है ,,पुलिस को सो मोटो थाने में रिपोर्ट दर्ज करना चाहिए ,,, लेकिन बिकाऊ मिडिया जो ठहरा ,,,एक ब्लेकमेलर के नाते चोरी से कथित सी डी ब्लेकमेल करने के मक़सद से बनाकर कई दिनों तक अपने पास सुरक्षित रखने वाला ,शख्स कहता है अभी और सुबूत है बताऊंगा ,,,साफ़ ब्लेकमेलिंग की श्रेणी में आता ,है , साफ ज़ाहिर है वोह शख्स इस सी डी या कथित आगे के कोई सुबूत का डर बता कर हार्दिक को ,,ब्लेकमेलर पार्टी का समर्थक बनाना चाहता है ,,चलो ,इन सी डी इतने दिनों तक छुपा कर रखने वाले साहिब की मोबाइल और लैंडलाइन को डिटेल निकलवा लीजिये ,,सभी तथ्य सामने आ जाएंगे ,,तो जनाब खुद ही सोचो एक सी डी जो खिलाफ थी वोह बिकाऊ मीडिया ने गायब कर दी ,मीडिया वाले पत्रकार को गिरफ्तार करवा दिया ,,दूसरी तरफ यह सीडी जिसका अभी तक कोई सत्यापन नहीं ,,जिसमे महिला की कोई शिकायत नहीं ,,जिसमे महिला का कोई नाम कोई पहचान नहीं ,,बस शुरू हो गए ;ब्लेकमेल करने ,,खेर ,,,,किये जाओ जो चाहो ,,सच जब भी सामने आएगा ,,,,,,,,तब भी आप शर्मसार नहीं होंगे ,,क्योंकि बिकाऊ मीडिया साहिब आपने तो सोची समझी साज़िश के तहत यह तैयारी की है और अभी तो आगे आप लोगो की सांठ गाँठ के न जाने कोन कोन से षडयंत्रो की कहानिया देखना होंगी ,,लेकिन याद रखना यह देश पोल खुलने पर आप लोगो को कभी माफ़ नहीं करेगा ,,चुनाव मुद्दे पर होता है ,,विकास पर होता है ,,साज़िशो और षड्यंत्र खरीद फरोख्त पर नहीं ,,,अख्त

वक्फ के सांसद कोटे के सदस्य का चुनाव आगामी 23 नवम्बर को

राजस्थान बोर्ड आॅफ मुस्लिम वक्फ के सांसद कोटे के सदस्य का चुनाव आगामी 23 नवम्बर को होगा.जिसके लिए पूर्व सांसद अश्कअली टाक ने आज निर्वाचन अधिकारी के समक्ष पर्चा भरा.स्मरण रहे कि टाक पूर्व में राज्यसभा सांसद होने के नाते सदस्य थे.उनका राज्यसभा का कार्यकाल पूरा होने पर स्वत: ही पद रिक्त हो गया था.इस पद पर अब पूर्व सांसदों नजमा हेपतुल्लाह,एमामुद्दीन खान उर्फ दुरुमियां और अश्कअली टाक में से एक निर्वाचित होना है.जिसमे टाक का चुना जान तय माना जा रहा है.
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...